संपादकीय:Editorials (English & Hindi) Daily Updated

टीबी से जंग, टीबी की बीमारी बनी हिमाचल प्रदेश की सरकार के सामने एक बड़ी चुनौती है(दैनिक जागरण)

टीबी (तपेदिक) की बीमारी हिमाचल प्रदेश के लोगों के लिए बड़ी चुनौती है। सरकारी प्रयास व जागरूकता अभियानों के बावजूद मरीजों के आंकड़े में वृद्धि होना बताता है कि इसके समूल नाश के लिए प्रयासों में और तेजी लाने के साथ लोगों को जागरूक करने की बड़ी जिम्मेदारी सबको उठानी होगी। प्रदेश में औसतन हर साल इस बीमारी के कारण कई लोगों की मौत हो रही है। तपेदिक के खिलाफ लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल लाखों रुपये खर्च किए जाते हैं लेकिन इसके बावजूद साल-दर-साल मरीजों का आंकड़ा बढ़ रहा है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े बताते हैं कि प्रदेश में तपेदिक रोग निवारण की सफलता दर 95 फीसद है, लेकिन जितने रोगियों का इलाज होता है, उससे ज्यादा नए रोगी सामने आ रहे हैं। 2015 में प्रदेश में 14,333 टीबी रोगी थे और दिसंबर 2016 में यह आंकड़ा 15,137 तक पहुंच गया। प्रदेश सरकार 2022 तक राज्य को टीबी रोग मुक्त बनाने का दावा तो कर रही है, लेकिन इन हालात में यह संभव नहीं लगता। इसका एक कारण यह भी है कि टीबी के मरीज इस बीमारी को हलके से लेते हैं। दवा का नियमित सेवन न करने से सुरक्षा चक्र टूट जाता है और दोबारा से उपचार शुरू करना पड़ता है। यह कोई आनुवांशिक रोग नहीं है बल्कि किसी को भी हो सकता है।

स्वस्थ व्यक्ति तपेदिक रोगी के खांसने या छींकने से हवा में फैले जीवाणुओं को ग्र्रहण करने रोग का शिकार हो सकता है। जिस व्यक्ति का प्रतिरक्षी तंत्र कमजोर होता है, उसमें इस रोग के होने की आशंका बढ़ जाती है। इसके अलावा अत्यधिक मात्रा में धूमपान या शराब का सेवन करने वालों को भी रोग के होने की आशंका ज्यादा होती है। बदलती जीवनशैली व खानपान में बदलाव से ज्यादा लोग टीबी की चपेट में आ रहे हैं। टीबी से निपटने के लिए जमीनी लड़ाई कितनी सतही है, इस पर कभी विचार नहीं किया। निगरानी तंत्र को और अधिक विकसित करने की जरूरत है, जिससे इस पर कारगर ढंग से काबू पाया जा सके। सबसे अहम है कि लोगों बीमारी के बारे में जागरूक हों व नियमित दवा का सेवन करें ताकि बीमारी से बचा जा सके। हर व्यक्ति को संकल्प लेना होगा कि टीबी के खिलाफ जंग में सहभागी बनेंगे और इसके समूल नाश में सहायक बनेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

संपादकीय:Editorials (English & Hindi) Daily Updated © 2018 Frontier Theme