संपादकीय:Editorials (English & Hindi) Daily Updated

संपादकीयः आरोप और माफी(जनसत्ता )

आम आदमी पार्टी और उसके शीर्ष नेता अरविंद केजरीवाल चूंकि ईमानदारी और स्वच्छता के नए प्रयोग के दावे और वादे के साथ राजनीति में उतरे थे, इसलिए लोगों को उनसे उम्मीद रही कि वे किसी झूठ या अफवाह के सहारे अपनी सियासत चमकाने में विश्वास नहीं करते होंगे।

आम आदमी पार्टी और उसके शीर्ष नेता अरविंद केजरीवाल चूंकि ईमानदारी और स्वच्छता के नए प्रयोग के दावे और वादे के साथ राजनीति में उतरे थे, इसलिए लोगों को उनसे उम्मीद रही कि वे किसी झूठ या अफवाह के सहारे अपनी सियासत चमकाने में विश्वास नहीं करते होंगे। ऐसी ही धारणाओं से बनी उनकी छवि के बूते दिल्ली की राजनीति में उन्हें जनता का व्यापक समर्थन मिला और वे सत्ता में हैं। लेकिन समय बीतने के साथ आम आदमी पार्टी के कई नेताओं के साथ-साथ खुद उनके बारे में भी जिस तरह की खबरें आ रही हैं, वे उनके दावों के प्रति लोगों को निराश करती हैं। ताजा मामला पंजाब में शिरोमणि अकाली दल के नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया से अरविंद केजरीवाल के माफी मांगने से जुड़ा है। गौरतलब है कि उन्होंने पंजाब विधानसभा चुनाव के दौरान मजीठिया को मादक पदार्थों के तस्करों का सरगना कहा था। हालांकि उस समय उनके पास इस आरोप के क्या आधार थे, यह साफ नहीं है। कई बार एक-दूसरे पर इस तरह समान आरोपों की होड़ में मामला दब जाता है। मगर केजरीवाल के गंभीर आरोप के बाद मजीठिया ने उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर कर दिया था। जाहिर है, तब केजरीवाल के सामने दो ही विकल्प बच गए थे। या तो वे अपने आरोप का आधार या उसके पक्ष में सबूत पेश करें या फिर माफी मांगें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

संपादकीय:Editorials (English & Hindi) Daily Updated © 2018 Frontier Theme