संपादकीय:Editorials (English & Hindi) Daily Updated

संपादकीय: त्रासद सच

सवाल है कि जो तथ्य अब सामने आए हैं, क्या उनके बारे में सरकार को सचमुच पता नहीं था? अब जिस तरह यह मामला सामने आया और समय-समय पर इसकी परतें खुलती गर्इं, उससे स्पष्ट है कि अगवा भारतीयों की हत्या के संकेत सरकार को पहले ही मिल चुके थे। उनमें एक जो शख्स बच निकला था, उसने बताया था कि बाकी लोगों को आइएस ने मार डाला है।

इराक में पौने चार साल पहले जिन चालीस भारतीय नागरिकों का अपहरण हुआ था, उसकी हकीकत अब सामने आई है कि उनमें से उनतालीस लोग मारे जा चुके हैं। तब एक व्यक्ति अपनी पहचान बदल कर बच निकला था। कट्टरपंथी संगठन आइएस यानी इस्लामिक स्टेट ने इन लोगों की हत्या कर एक गांव में दफना दिया था। सरकार इस खबर पर क्या रुख अपनाती है, यह आने वाले समय में पता चलेगा, लेकिन जिन घरों के नौजवान मारे गए, वे गहरे सदमे हैं। उन तमाम लोगों के परिवार वाले ज्यादा आहत इसलिए हैं कि सरकार ने शुरू में एक तरह से झूठ बोला और इस मसले पर देश को अंधेरे में रखा। अभी तक सरकार कहती आई थी कि इराक में लापता भारतीय सुरक्षित हैं। लेकिन अब डीएनए जांच से इन मौतों की पुष्टि हो जाने के बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मंगलवार को राज्यसभा में बयान देकर अगवा भारतीयों के मारे जाने के बारे में बताया। हालांकि लंबे समय से सरकार इस मुद्दे पर घिरी थी। मगर इतने संवेदनशील मामले में उसका अब तक का रवैया हैरान करने वाला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

संपादकीय:Editorials (English & Hindi) Daily Updated © 2018 Frontier Theme